Home » धार्मिक पर्यटन » भारत » भारत में 10 सर्वाधिक लोकप्रिय ऐतिहासिक धरोहर

भारत में 10 सर्वाधिक लोकप्रिय ऐतिहासिक धरोहर

banner विभिन्न धर्मों, संस्कृतियों, रंगों, मान्यताओं, परंपराओं और भाषाओं से भरे-पूरे भारत के बारे में हर कोई जानता है और पूरी दुनिया की नई पीढ़ी इस बारे में जानने को इच्छुक रहती है। भारत की श्रेष्ठता अगर सांस्कृतिक और धार्मिक विचारों व ईश्वर के प्रति गहरी आस्था  को लेकर है, तो एक विशिष्ट पहचान कई खूबसुरत और मशहूर ऐतिहासिक स्मारकों  के संदर्भ में भी है, जिसे देखने के लिए पर्यटक दूर-दूर से आते हैं। इन स्मारकों में कुछ लोगों की भावनाएं जुड़ी हुई हैं, तो कुछ के लिए यह शिल्प का अजूबा अचंभित कर देने वाला नमूना है।  आइए जानते ऐसे ही कुल 10 बहुचर्चित स्मारकों के बारे मेंः-

taj-mahal

1. ताजमहल:

देश की सर्वाधिक आबादी वाले उत्तर प्रदेश में यमुना नदी के किनारे स्थित आगरा के ताजमहल को हिंदुस्तान के शंहशाह रहे शाहजहां द्वारा बेगम मुमताज की याद में बनवाया गया था, जिनकी मृत्यु 14वें बच्चे के जन्म के दौरान हो गई थी। इसकी खूबसुरती बेमिसाल है और यह दुनिया का आठवां अश्चर्य है। इसे 1654 में बीस हजार कार्यकर्ताओं और एक हजार हाथियों की मदद से बनाया गया था, जिसमें चांदनी रात में दुधिया चमक देने वाले संगमरमर के पत्थर लगाए गए हैं।

hawa-mahal

2. हवा महलः

यह एक प्रसिद्ध भारतीय स्मारक है, जिसकी कलात्मकता को पर्यटक निहारते रह जाते हैं। दुनिया भर में लोगों का यह आकर्षण का केंद्र राजस्थान के गुलाबी शहर जयपुर का एक महल है, जिसमें झरोखे ही झरोखे बने हैं। इसे 1799 में महाराजा प्रताप सिंह द्वारा बनवाया गया था। इसे बनवाने के पीछे का उद्देश्य शाही महल की महिलाओं को सड़क के किनारे आयोजित होने वाले सार्वजनिक त्याहारों का आनंद उठाने देने का था।

qutub-meenar

3. कुतुब मीनारः

भारत की राजधानी नई दिल्ली में स्थित कुतुब मीनार मुगल शासन काल में कुतुब-उद-दीन ऐबक द्वारा बनवाया गया था, जिसे बाद में उनके उत्तराधिकारी इल्तुतमिश ने पूरा किया था। लाल बलुआ पत्थर की बनी इस मीनार की ऊंचाई 73 मीटर है तथा यह इंडो-इस्लामिक अफगान वास्तुशिल्प का एक उत्कृष्ट उदाहरण है। मीनार के नीचे से भीतर की ओर ऊपर तक जाने वाली  379 पायदान की सीढि़यां हैं। एक समय में पर्यटक इन सीढि़यों के जरिए मीनार की ऊंचाई का रोमांचक आनंद उठाते थे, लेकिर 1981 में हुई एक दुर्घटना के दौरान 45 स्कूली बच्चों की मृत्यु के बाद सीढि़यों का इस्तेमाल सार्वजनिक तौर पर प्रतिबंधित कर दिया गया है। यह एक हैरत में डालने वाली ऐतिहासिक धरोहर है, जिसे प्राकृतिक अपदाओं से कोई क्षति नहीं पहुंची है। यह भारत की दूसरी ऊंची मीनार है।

pic-1

4. विक्टोरिया मेमोरियलः

यह पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में स्थित है। इसे महारानी विक्टोरिया की याद में वर्ष 1921 में में बनाया गया था। यह एक पर्यटक स्थल है, जहों लोग कलात्मक मूर्तियां, पेंटिंग और ब्रिटिश काल के दस्तावेजों या पांडुलिपियों के संग्रह का दर्शन करने आते हैं।

india-gate

5. इंडिया गेटः

यह भारत की राजधानी दिल्ली के केंद्र में राष्ट्रपति भवन के ठीक सामने स्थित है। इसे एडविन लुटियन द्वारा मुस्लिम वास्तुकला की शैली में बनवाया गया। इसकी स्थापना वर्ष 1931 में की गई थी और यह उन सभी 90,000 सैनिकों की श्रद्धांजलि है, जो एंग्लो-अफगान युद्ध में शहीद हो गए थे। पर्यटकों को बेहद आकर्षित करने वाले जगह सामान्य नागिरिकों के लिए पिकनिक मनाने का बेहतरीन जगहों में से एक है। राजपथ पर आयोजित होने वाले प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी को भव्य गंणतंत्र दिवस का यह स्मारक गवाह बनता है।

maha-bodhi

6. महाबोधी मंदिरः

यह एक बौद्धिस्ट मंदिर है, जो बिहार के गया जिले में स्थित है। इसे महान जागृति मंदिर के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि सिद्धार्थ को गौतम बुद्ध बनने का ज्ञान यहीं प्राप्त हुआ था। इस मंदिर की स्थापना के बारे में सम्राट अशोक ने ईसा पूर्व 250 में कहा था, जो लगभग 200 साल बाद बनाया गया। यह मंदिर भी भारत के सातवें आश्चर्य में एक है। इस मंदिर परिसर में भगवान बुद्ध का स्तूप और महाबोधि वृक्ष है।

mysore-palace

7. मैसूर पैलेसः

यह मैसूर मिर्जा रोड पर स्थित एक मशहूर पैलेस है। इस भव्य और बड़े इमारत का इस्तेमाल एक जमाने में महाराजा वोडेयार अपने रहने के लिए किया करते थे।  हालांकि मूल महल भूलवश से वर्ष 1897 में जल गया था, लेकिन उसे फिर से वर्ष 1911 में हेनरी इरविन द्वारा पुनः निर्मित करवाया गया। अब यह एक शाही वेशभूषा, खजाने, पेंटिंग, गहने आदि का एक भव्य संग्रहालय बन चुका है।

mumbai-gatway

8. गेटवे आॅफ इंडियाः

महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई के इस ऐतिहासिक इमारत को देखने का रोमांच अगर उसके पीछे विशाल समुद्र की उठती-गिरती लहरें हैं, तो सामने महंगे ताजमहल होटल की खूबसुरती है। इसे क्वीन मैरी और किंग जाॅर्ज पंचम के 1911 में एक दौरा पर आने की याद में श्रद्धांजलि स्वरूप वर्ष 1924 में बनवाया गया था।

sanchi-stup

9. सांची स्तूपः

यह स्मारक मध्य प्रदेश में स्थित है और इस शानदार इमारत की स्थापना मौर्य सम्राट अशोक ने बुद्ध के सम्मान में ईसापूर्व तीसरी सदी में बनवाया था। यह स्मारक बौद्ध वास्तुकला का एक उत्कृष्ट नमूना के तौर पर प्रसिद्ध है, जो ईसापूर्व तीसरी सदी से लेकर 12वीं शताब्दी तक काफी लोकप्रिय रहा।

lal-quila

10. लाल किलाः

यह भारत की राजधानी दिल्ली में स्थित एक मुगल बादशाह शाहजंहा द्वारा वर्ष 1664 में स्थापित किया गया था। उसके बाद इसका इस्तेमाल 200 सालों से अधिक वर्षों तक मुगल सम्राटों के रहने के लिए किया गया। इसका निर्माण लाल बलुआ पत्थर से किया गया है। इसी कारण इसे लाल किला कहा जाता है। यूनेस्को ने भी ने इसे 2007 में विश्व धरोहर की सूचि में शामिल किया है।

giay nam depgiay luoi namgiay nam cong sogiay cao got nugiay the thao nu