Home » ज्योतिष शास्त्र » सामुद्रिक शास्त्र

सामुद्रिक शास्त्र

भौंहों की बनावट से जानिए अपना चरित्र

eye-brow

मुखाकृति में चेहरा मन का दर्पण है । चेहरे के अंग से व्यक्ति के विचार, दृष्टिकोण व स्वभाव का पता चलता है      । आपके स्वभाव व चरित्र को जानने का भौंहें एक ख़ास माध्यम है  । भौंहों की संरचना, रंग व आकार का ध्यान पूर्वक अध्यन कर किसी भी व्यक्ति के स्वाभाव, चरित्र व उसके भविष्य के बारे में जाना ...

Read More »

आँखों की बनावट से जानिये व्यक्तित्व के राज

eye

 सामुद्रिक शास्त्र में अंग लक्षण के आधार पर व्यक्तित्व के विषय में बताया गया है। किसी भी व्यक्ति के आँखों को देखकर उसकी चारित्रिक विशेषताओं का आकलन किया जा सकता है। चेहरा हमारे व्यक्तित्व और स्वभाव का प्रतिनिधित्व करता है। मन के भीतर जो भाव चलते हैं वही चेहरे पर प्रतिबिंबित होते हैं। आँखें मन की भाषा बोलती है। आइए ...

Read More »

आपकी भौंहें भी आपका भविष्य बताती है

eye-brow

 मुखाकृति में चेहरा मन का दर्पण है। चेहरे की आकृति से व्यक्ति के विचार, दृष्टिकोण व स्वभाव व चरित्र को समझा जा सकता है। भौहों की संरचना, रंग व आकार का ध्यानपूर्वक अध्यन करना चाहिए वरना निर्णय लेने में चूक हो जाती है। भौहो का रंग सिर के बालों की अपेक्षा हल्का हो तो जातक कंजूस स्भाव के होते हैं। ...

Read More »

ललाट बतायें आपके भविष्य के राज

lalat

 भौंहों के स्थान से लेकर सिर के केश तक तथा दाएं कनपटी से लेकर बाएं कनपटी तक के स्थान को ललाट कहते हैं। ललाट स्थान पर कुछ मुख्य रेखाएं होती हैं। फेस रीडिंग की बात करें तो कहते हैं कि आपका ललाट यानी आपका माथा आपके भविष्य से जुड़ी कई चीजें बताता है। ललाट पर रेखाओं की   स्थिति के अनुसार ...

Read More »

चेहरे पर तिल से भी भविष्यवाणी की जा सकती है

pic-1

 भारतीय सामुद्रिक शास्त्र में चेहरे पर उभरे कई प्रकार के तिलों का वर्णन किया गया है। इन तिलों का हमारे स्वभाव और भविष्य पर सीधा असर पड़ता है।  चेहरे पर उभरे तिलों को देखकर बताया जा सकता है कि किस व्यक्ति का चरित्र कैसा है। जैसे महिलाओं के होंठों पर तिल का होना विलासिता की निशानी होता है तो वहीं ...

Read More »

अंगुलियां बतायें आपके चरित्र के राज

pic-01

 सामुद्रिक शास्त्र के अनुसार, त्वचा के भीतर बारीक रेखाओं के वलय, शंकु, आवृत्ति, रंग व स्पर्श के आधार पर किसी भी व्यक्ति का जन्म तारीख, नक्षत्र, तिथि, समय व वर्ष के साथ साथ चरित्र व  भविष्य का सही-सही फलित किया जा सकता है। भारतीय संस्कृति की  यह प्राचीन दिव्य विद्या, चमत्कृत कर देने वाली हैं। 1- हथेली की तुलना में ...

Read More »
giay nam depgiay luoi namgiay nam cong sogiay cao got nugiay the thao nu