Home » Editor's Pick » विदेशों में 10 सर्वाधिक लोकप्रिय हिन्दू मंदिर

विदेशों में 10 सर्वाधिक लोकप्रिय हिन्दू मंदिर

विदेशों में 10 सर्वाधिक लोकप्रिय हिन्दू मंदिर हिंदू धर्म दुनिया का सबसे पुराना धर्म है। यह पूरी दुनिया में एक अरब से अधिक अनुयायिओं के बीच काफी लोकप्रिय है। हिंदू धर्माथियों के बीच काफी गहरी आस्था के साथ-साथ तरह-तरह की मान्यताएं और विश्वास है। भारत में विभिन्न देवी-देवताओं के हिंदू मंदिरों की संख्या काफी है और इसे अपने आसपास आसानी से देखा जा सकता है, लेकिन भारत के बाहर ऐसा नहीं है। हालांकि इसका अर्थ यह नहीं है कि भारत को छोड़कर हिन्दू मंदिर कहीं और है ही नहीं। विदेशों में भी कई जगह हिन्दू मंदिर का निर्माण किया गया है, जहां वहां बसे हिंदू धर्मावलंबियों को हिंदू त्यौहार मनाने में असानी होती है और वे हिंदू धर्म के मुताबिक अपने संस्कार और पारंपरिक संस्कृति को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इन मंदिरों में उन्हें असीम शांति और सुख का एहसास होता है। आइए एक नजर डालते हैं भारत के बाहर उन 10  शीर्ष हिन्दू मंदिर पर जो अपनी अद्वितीय छवि, शिल्पकला और धार्मिक आस्था को लेकर काफी प्रसिद्ध हैं।

 पशुपतिनाथ मंदिर1. पशुपतिनाथ मंदिर :

यह भारत के उत्तर में पड़ोसी देश नेपाल में स्थित है और यहां भगवान महादेव अर्थात शिव की एक काफी प्राचीन और बेशकीमति मंदिर है। इसका निर्माण राजा जयदेव के द्वारा वर्ष 743 में करवाया गया था। हालांकि बारहवीं और सत्रहवीं शताब्दी में इसे प्राकृतिक आपदा का शिकार होना पड़ा था और तब भूंकप की वजह से इस हिन्दू मंदिर का काफी नुकसान हुआ था। बाद में इसका पुनर्निमाण करवाया गया। वर्ष 2015 में आए भूकंप से भी इस मंदिर को काफी क्षति पहुंची। हालांकि इसके मुख्य हिस्सा वेदी को कुछ नहीं हुआ, जबकि बाहरी हिस्से की इमारत को क्षति पहुंचा था।

श्री सुब्रमनियार स्वामी देवस्थानम 2. श्री सुब्रमनियार स्वामी देवस्थानम्ः

यह एक सौ साल पुरानी  मलेशिया का, एक बहुत ही प्रसिद्ध हिन्दू मंदिर है और दुनिया भर में बाटू गुफाओं के बारे में लोकप्रिय है। इस मंदिर में भगवान मुरुगन स्थापित हैं। इसकी गुफा के प्रवेश द्वार पर ही करीब 42.8 मीटर ऊंची मुरुगन की मूर्ति स्थापित है।

 बाप्स श्री स्वामी नारायण मंदिर3. बाप्स श्री स्वामी नारायण मंदिर :

यह हिन्दू मंदिर अमेरिका के अटलांटा में स्थित है और इस भव्य मंदिर का निर्माण बाप्स के संगठन के द्वारा करवाया गया था। यह हिन्दू मंदिर 30 एकड़ भूमि पर बना हुआ है और करीब तीन हजार वर्ग मीटर के दायरे में स्थित है। इसकी भव्यता का अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि इसके निमार्ण में १९ लाख डाॅलर का खर्च आया और नौ सौ स्वयंसेवकों और तेरह सौ कारिगारों ने अपना योगदान दिया। इसमें संगमरमर के चमकीले 34,450 पत्थर लगाए गए हैं तथा विभिन्न हिंदू देवी-देवताओं की खुबसूरत मूर्तियां भी स्थापित हैं।

अरुल्मिगु श्री राजकलिम्मन ग्लास मंदिर 4. अरुल्मिगु श्री राजकलिम्मन ग्लास मंदिर :

शुरु में इस हिन्दू मंदिर को मलेशिया के टेब्रू में छोटे से आश्रम के तौर पर स्थापित किया गया था, लेकिन कुछ समय बाद 1992 में इसका एक बड़े मंदिर के तौर पर पुनर्निर्माण किया गया। इसके पुजारी गुरु भगवान सित्तर, बैंकाक के एक कांच के मंदिर से प्रेरित होकर आधुनिकीकरण करते हुए इसे कांच से निर्मित करवाया । उसके बाद से यह मंदिर धार्मिक आस्था के साथ-साथ  एक खुबसूरत दर्शनीय स्थल के रूप में लोगों के आकर्षण का केंद्र बन गया।

राधा माधव धाम  5. राधा माधव धामः

इस हिन्दू मंदिर की स्थापना वर्ष 1990 में की गई थी और आज इसकी मान्यता अमेरिका में बड़े आश्रम और हिंदू मंदिरों में से एक के रूप में है। इस मंदिर में भगवान श्री कृष्णा और राधा की मूर्तियों की पूजा अर्चना के अतिरिक्त हिंदी और संस्कृत भाषा में आध्यात्म की शिक्षा एवं प्राचीन संस्कारों व हिंदू ग्रंथों के बारे में जानकारी दी जाती है।

श्री वेंकटेश्वर बालाजी मंदिर 6. श्री वेंकटेश्वर बालाजी मंदिर :

यह हिन्दू मंदिर इंग्लैंड के टिविडला में स्थित है। इसमें भगवान वेंकटेश्वर बालाजी की पूजा अर्चना होती है। यह 23 अगस्त 2006 को हिंदू धमार्थियों के लिए अस्तित्व में आया। इसका निर्माण करीब 30 एकड़ भूमि पर किया गया है, जिसमें कई   हिन्दू देवी-देवताओं की मूर्तियां स्थापित हैं।

वाट रोंग खून  7. वाट रोंग खुनः

यह एक काफी अलग किस्म का हिन्दू मंदिर है, जिसे व्हाइट टेंपल के नाम से भी जाना जाता है। इसकी स्थापना थाईलैंड के च्यांग राय में की गई थी। एक थाई कलाकार चेलेर्मचाई कोस्तिपिपत द्वारा अद्भूत कलाकृतियों से सज्जित इस मंदिर में हिंदू और बौद्ध परंपराओं का समागम देखने को मिलता है। यह अन्य संप्रदायों का स्रोत माना जाता है।

 गणेश मंदिर8. गणेश मंदिर :

अमेरिका में स्थित यह मंदिर वहां का सबसे प्रमुख और सबसे बड़ा हिन्दू मंदिर है। इस मंदिर परिसर में प्रति दिन दैनिक पूजा और धर्मिक अनुष्ठान के अतिरिक्त व्याख्यान, धर्म-अध्यात्म पर चर्चा और अन्य कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।

प्रांबण्न 9. प्रांबण्नः 

यह हिन्दू मंदिर इंडोनेशिया के जावा में स्थित है।  यहां त्रिमूर्ति अर्थात तीनों प्रमुख देवों भगवान शिव, विष्णु और ब्रह्मा की पूजा होती है। इसकी स्थापना नौंवीं सदी के माताराम राजवंश के राकाइ पिकतन के द्वारा करवाया गया था। इस मंदिर के मूल परिसर में करीब छोटे-बड़े 240 मंदिर बने हुए थे, जिनके बीच में यह मंदिर स्थित है। हालांकि अभी यहां कुछ मंदिर अवशेष के तौर पर बचे हैं।

 अफ्रीकन हिंदू मठ 10. अफ्रीकन हिंदू मठः 

यह हिन्दू मंदिर घाना के अक्रा में स्थित है और इसकी स्थापना स्वामी घनानंद सरस्वती के द्वारा करवाई गई थी। यह मंदिर बहुत ही अलग किस्म का एक अनोखी पहचान लिए हुए है। यहां केवल भारतीय ही नहीं दूसरे देशों के लोग भी आते हैं और हिंदू धर्म की रस्मों का निरीक्षण करते हैं।

giay nam depgiay luoi namgiay nam cong sogiay cao got nugiay the thao nu